Entertainment

एक्टिंग छोड़ सड़क किनारे मैगी और आमलेट बेचने लगे थे संजय मिश्रा, तब रोहित शेट्टी वापस लेकर आए मुंबई

किसी इंसान की सफलता के पीछे उसका कड़ा संघर्ष छिपा होता है। बॉलीवुड में कई ऐसे दिग्गज कलाकार हुए हैं जिनके संघर्ष की कहानी कई लोगों को प्रेरित करती है। उन्हीं में से एक हैं एक्टर संजय मिश्रा।

एक्टिंग की दुनिया छोड़ चुके थे संजय अपने एक इंटरव्यू में संजय मिश्रा ने बताया कि वह कुछ साल पहले पहाड़ियों में शांत जीवन जीने के लिए उन्होंने एक्टिंग छोड़ दी थी। इस दौरान उन्होंने गंगोत्री की सड़क पर एक ढाबे पर मैगी और आमलेट बेचने का काम किया था। संजय मिश्रा ने बताया कि उन्होंने कुछ साल पहले मौत को करीब से देखा था, जिसकी वजह से उनका जीवन के प्रति दृष्टिकोण बदल गया।

मुंबई में खराब रहने लगी थी तबीयत उस घटना का संजय पर इतना असर पड़ा कि उन्होंने फिर कभी फिल्मों में काम नहीं करने का फैसला कर लिया था। वह कुछ दिनों के लिए ढाबे पर काम भी कर चुके हैं। हालांकि लोग उन्हें वहां भी पहचानने लगे थे। संजय ने कहा कि उनकी तबीयत बहुत खराब थी, उन्हें अपने पेट में गंभीर इंफेक्शन का पता चला था। इस वजह से उन्होंने मुंबई को छोड़ दिया।

पिता के निधन से टूट गए थे संजय संजय ने बताया, ‘मैं लगभग अपनी मृत्युशैया पर था। मैं कुछ दिनों के लिए अपने पिता के साथ रहने गया था लेकिन अचानक, उनकी मृत्यु हो गई। और उनकी मृत्यु ने मुझे पूरी तरह से तोड़ दिया।’ अंतिम संस्कार करने के बाद संजय ने अपनी मां से कहा कि वह कहीं जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मौत को करीब से देख उनका मुंबई लौटने का मन नहीं कर रहा था।

संजय ने आगे कहा, ‘जब यही जिंदगी है तो क्यों ना ऊपर वाले की चीजों को देखा जाए। जिस दुनिया में उसने मुझे भेजा, मैं अच्छे से देखता हूं…पहाड़ों में, कहीं कुछ।’ गंगोत्री जाने वाली सड़क पर संजय ने एक बुजुर्ग व्यक्ति के साथ सड़क किनारे ढाबे पर मैगी और आमलेट बनाने का काम किया। गोलमाल सीरीज और ऑफिस-ऑफिस से राहगीर उन्हें अभिनेता के रूप में पहचानने लगे।

रोहित शेट्टी ने बुलाया मुंबई संजय बताते हैं कि इस मुश्किल घड़ी में उनकी मां ने उनकी हिम्मत बढ़ाई, और दाढ़ी काटने को कहा। इसके बाद एक दिन उनके पास रोहित शेट्टी के ऑफिस से फोन आया और उन्हें फिल्म ‘ऑल द बेस्ट’ ऑफर की गई। इस फिल्म से उन्होंने कॉमेडी में झंडे गाड़े। फिल्में अजय देवगन, संजय दत्त, फरदीन खान, बिपाशा बसु, जॉनी लीवर और मुग्धा गोडसे ने भी अभिनय किया था। तब से संजय ने कभी पीछे मड़कर नहीं देखा और आंखों देखी, मसान और दम लगा के हईशा जैसी प्रशंसनीय फिल्में कीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button