Entertainment

जिंदगी की जंग हार गई गीता फोगाट की बहन,दुप्पटे के फंदे से खत्म किया जीवन

दोस्तों बाॅलीवुड में रियल लाइफ स्टोरी पर बहुत सी फिल्मे बनाई गयी है .उन्ही में से एक फिल्म है दंगल इस फिल्म में देश का नाम रोशन करने वाली कुश्ती चैम्पियन फोगाट सिस्टर्स की जिन्दगी के बारे में बताया गया है कि किस तरह जीवन में मेहनत और संघर्ष करके आज वो इस मुकाम तक पहुंची . ऐसा कोई नही होगा जो कुश्ती चैम्पियन गीता फोगाट और बबीता फोगाट को न जानता हो . जब घर में ऐसे ऐसे बड़े भाई बहन ऐसे होगे तो छोटे भी उनके नक़्शे कदम पर चलने के लिए प्रेरित होते है .लेकिन सफलता एक दम से हासिल नही होती . जीवन में एक सफल चैम्पियन बनने के लिए कई बार हार का सामना करना पड़ता है .जिसमे आज हार बर्दाश्त करने की क्षमता है वही कल को अपनी हार को बड़ी जीत में बदल कर दुनिया में नाम रौशन करता है .लेकिन हार सहन करना सबके बस कि बात नही .कुछ लोग छोटी छोटी बाते दिल पर लगा लेते है और इसके चलते गलत कदम उठाने पर मजबूर हो जाते है और अंत में अपना जीवन समाप्त कर लेते है .

Dangal': Here's an excerpt from Mahavir Singh Phogat biography that  inspired Aamir Khan

आपको बता दें कि गीता और बबिता की ममेरी बहन रितिका ने भी एक ऐसा ही कदम उठा चुकी है जिसने उन्हें हमेशा के लिए दुनिया से दूर कर दिया है. आपको बता दें कि रितिका भी अपनी बहनों गीता और बबिता की तरह कुश्ती की खिलाड़ी थी, गौरतलब है कि उनका भी सपना था कि वो भी अपनी बहनों की तरह परिवार और समाज का नाम रोशन करें और देश के लिए मैडल जीत कर लाए.

Ritika Phogat died of suicide after losing a final match, investigation  under process – bebaak.in

दरअसल इसके लिए वो काफी मेहनत भी कर रही थी, हालाँकि करियर की शुरुआती कुश्ती यानी स्टेट लेवल सब जूनियर कॉम्पिटिशन में हार मिलने के बाद वो बुरी तरीके से निराश हो गई थी. वहीं मीडिया से प्राप्त जानकारी के मुताबिक यह टूर्नामेंट 12 से 14 मार्च के दरमियान भागलपुर में संपन्न हुआ था.दरअसल इस कुश्ती कॉम्पिटिशन में रितिका फाइनल तक भी आ चुकी थी. मगर फाइनल मैच में वो सिर्फ एक नंबर से बाहर हो गई थी. वहीं इस हार ने रितिका को बुरी तरह से तोड़ कर रख दिया था और अंत में उन्होंने खुद को खत्म करने का फैसला कर लिया था.

हालाँकि मीडिया से प्राप्त जानकारी के मुताबिक अर्जुन अवॉर्ड विजेता महावीर फोगाट भी उस प्रतियोगिता में गए हुए थे. आपको बता दें कि रितिका ने पंखे में अपना दुपट्टा डाल कर अपने जीवन को पूरी तरह खत्म कर दिया. हालाँकि फिलहाल पुलिस इस पूरे मामले की जांच करने में लगी हुई है.दरअसल यह खबर पढ़ रहे हर व्यक्ति से हम बस इतना ही कहना चाहते है कि ज़िन्दगी बहुत खूबसूरत होती है. और एक हार आपका पूरा जीवन नहीं बन सकती है. हालाँकि वहीं खबर पढ़ रहे लोगों से हम बस इतना ही कहना चाह रहे है अपने बच्चों को समझे, उनसे बातें करते रहे.किसी और के जैसे उन्हें बनाने से बेहतर है, उन्हें खुद को खोजने मे मदद करें. और इस खोज में आप उनके साथी बन जाए, आपको अपने बच्चों के साथ एक दोस्त जैसे व्यवहार करना चाहिए, उन्हें सही रास्ता दिखाना चाहिए.

The POWER Packed HOGATS - PressReader

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button