Entertainment

Sanjay Dutt पूरी दुनिया में बदनाम है अपनी इन काली करतूत की वजह से

संजय दत्त की लाइफ और कैरियर किसी भी बॉलीवुड एक्ट्रेस से अलग रहा है। जहां एक टाइम उन पर देशद्रोही होने का आरोप लगा संजय की जिंदगी एक फिल्म की तरह ही है। जहां रोमांस, एक्शन, इमोशन सब कुछ देखने को मिला है, इस में हम आपको संजय दत्त से जुड़ी 20 ऐसी बातें बताएंगे जो पहले शायद आप ना जानते होगे , नंबर 1, नरगिस और सुनील जब पैरेंट्स बनने वाले थे तो उन्होंने एक मैगज़ीन में एक ऐड दिया था

जिसमे इनको लड़का और लड़की के नाम सजेशन करने थे, कई नाम सजेशन को देखने के बाद नरगिस को संजय नाम बहुत पसंद आया, और बस यही से नरगिस और सुनील ने मन बना लिया कि अगर उनके घर एक लड़का पैदा होता है तो उसका नाम वो संजय ही रखेंगे। नंबर 2, 2013 में जब संजय ने जेल जाने के लिए सरेंडर किया तो हर कैदी की तरह उन्हें भी जेल में काम दिया गया था।

संजय का काम पेपर बैग बनाना था जिनसे उन्हें दिन के 50 रूपए मिला करते थे, नंबर 3, 2016 में जब संजय को जेल से रिहा किया गया, तब तक उनकी टोटल कमाई 30 हजार से भी ज्यादा हो चुकी थी, जिसमें से वह सारी इनकम जेल की कैंटीन में खर्च कर चुके थे। जेल से रिलीज होने के दिन उनका बैलेंस 450 रूपए था और उन्होंने ये पैसे अपनी वाइफ ‘मान्यता’ को दिए, नंबर 4, संजय ने अपनी करियर में दो बार फिल्मफेयर अवार्ड जीता है।

फिल्म वास्तव के लिए अपनी लाइफ का पहला फिल्मफेयर बेस्ट एक्टर जीता और उसके बाद मुन्ना भाई एमबीबीएस के लिए उन्हें बेस्ट कॉमेडियन का फिल्म फैड दिया गया, नंबर 5 , संजय ने अपनी उम्र में पहली सिगरेट 9 साल की उम्र में पी थी वोह अपने फादर और दोस्तों से कॉन्फ्रेस हो जाते थे क्योंकी सुनील जब भी अपने दोस्तों से साथ बैठते तो सिगरेट पीते नजर आते थे,

तो एक दिन संजय ने आधी पड़ी सिगरेट को जलाकर पीना शुरू कर दिया ऐसे करते करते संजय ने कई बार सिगरेट ट्राय की और फिर जब सुनील को इसके बारे में पता चला तो वो बहुत नाराज हो गये, नंबर 6, संजय के बिगड़ते बिहैवियर को देखकर सुनील ने संजय को बोर्डिंग स्कूल में डालने का मन बना लिया। यह एडवाइस इंद्रा गांधी ने भी दी थी।

क्योंकि उन दिनों सुनील कांग्रेस पार्टी के एक्टर मेंबर थे तो जब उन्होंने इंदिरा गांधी को संजू के बारे में बताया तो इंदिरा ने संजू को बोर्डिंग स्कूल भेजने का सुझाव दिया। बस उसके बाद संजू को बोर्डिंग स्कूल भेज दिया गया और अगले 9 साल संजू नहीं वही बिताएं नंबर 7, स्कूल खत्म करने के बाद जब संजू के कॉलेज जाने की बारी आई तो संजू का ग्रेजुएशन करने का मन बिल्कुल भी नहीं था।

सुनील दत्त का कहना था कि चाहे तुम लाइफ में जो मर्जी करो पर तुम्हारा ग्रेजुएट होना बहुत जरूरी है। फिर संजू का एडमिशन । मुंबई कैफीन कॉलेज में करवाया गया, लेकिन कॉलेज के पहले साल में एक या दो बार से ज्यादा क्लास में नहीं गए और यही वो टाइम था जहां से संजू को हैवी ड्रग करने की आदत लग गई नंबर 8। संजय दत्त की पहली फिल्म रॉकी की रिलीज के दौरान नरगिस का कैंसर बहुत ही सीरियस स्टेज पर था।

पर फिर भी उनकी ख्वाहिश थी कि कैसे भी करके संजू की फिल्म के प्रीमियर में उन्हें बिग स्क्रीन पर देखे पर 3 मई यानी कि रॉकी के रिलीज होने के 5 दिन पहले ही नरगिस चल बसी, फिर 8 मई को रॉकी का प्रीमिर हुआ तो संजय ने थिएटर की एक सीट अपनी मां की याद में खाली रखी नंबर 9,टीना मुनीम और संजय दत्त रॉकी के स्टेट्स पर मिले और बस यही से दोनों का अफेयर शुरू हो गया

या फिर करीब 2 साल तक चला, संजू की ड्रग प्रॉब्लम के चलते टीना मुनीम में संजू से ब्रेकअप कर लिया,टीना का कहना था कि संजू ने हमेशा उनसे अपनी ड्रग प्रॉब्लम छुपाई जिसकी वजह से उनके रिलेशनशिप में बहुत डिफरेंस आ गए थे। नंबर 10 संजय की ड्रग प्रॉब्लम दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही थी और एक दिन तो ऐसा भी हुआ। की संजय बहुत सो कर उठे तो उनके नौकर उनकी हालत देख कर रोने लगे तो संजू ने पूछा कि क्या हुआ है

तुम्हें, तो संजय को बताया गया कि वह 2 दिन के बाद उठे हैं। संजू ने उसके बाद रीयलाईज किया की अगर इस प्रॉब्लम का कुछ नहीं किया गया तो वह जल्द ही मर जाएंगे तो संजू ने हिम्मत करके सुनील दत्त को कहा कि मैं ड्रग्स की लत छोड़ना चाहता हूं।

आप मुझे रिहा भेज दो, उसके बाद संजू को यूएस के लिए रिहा भेजा गया जहां वह 1 साल तक रहे नंबर 11 जब संजय यूएस में थे तो उन्होंने मन बना लिया था कि वह कभी इंडिया वापस नहीं आएंगे और यूएस में ही कोई छोटा मोटा बिजनेस करेंगे। क्योंकि यूएस में उनकी दोस्ती एक बिजनेसमैन से हो गई थी।

जिन्होंने संजू को फार्मिंग बिजनेस में पार्टनरशिप भी ऑफर कि थी । पर जब संजू ने यह बात सुनील दत्त को बताई तो सुनील ने संजू से रिक्वेस्ट की कि उन्हें एक बार और फिल्मो में ट्राय करना चाहिए, संजू का मन तो नहीं था पर वह अपने पिता की बात नहीं टाल नहीं पाए और दोबारा इंडिया आकर फिल्मों में काम करने लगे, नंबर 12, संजय US से आने के बाद अपनी लाइफ डिसिप्लिन से जीना चाहते थे।

इसी वजह से उन्होंने बॉडी बिल्डिंग में इंट्रेस्ट दिखाना शुरू कर दिया। उनका कहना था कि यूएस में रहते हुए उन्होंने ‘अनोज वाल्सनेगर’ की कई फिल्मे देखि जिसने संजू बॉडीबिल्डिंग के लिए इंस्पायर्ष हुए थे, नंबर 13, बॉलीवुड कॉम्पैक्ट के बाद उनकी दो फिल्म रिलीज़ हो चुकी थी, और दोनों ही बॉक्स ऑफिर पर बुरी तरह फ्लॉप रही, संजय को एक हिट फिल्म की जरूरत थी

और वह उन्हें मिली एक नए डायरेक्टर के साथ, जिन्हे आज पूरी दुनिया महेश भट्ट के नाम से जानती है। महेश ने संजू को ‘नाम’ फिल्म में कास्ट किया और यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर तो कामयाब रही थी। पर साथ ही साथ कृतिक भी पहली बार संजय दत्त की एक्टिंग की तारीफ करते हुए नजर आए, ‘नाम’ फिल्म की सक्सेस के बाद संजू को कई और फिल्म ऑफ होने लगी संजू का मानना है कि महेश भट्ट ने ही उन्हें बॉलीवुड में रीलॉन्च किया है

और इस बात की वह हमेशा थैंकफूल रहेंगे, नंबर14, सन 1986 संजय के लिए बहुत अच्छा जा रहा था, उनकी ड्रग प्रोबलम बिल्कुल ख़त्म हो चुकी थी फिल्म ‘नाम’ दोबारा इंडस्ट्रीज में स्टैब्लिश हो चुके थे, पर सबसे क्रिटिकल मूवमेंट वो रहा जब उस साल उनकी मुलाकत एक्टर ‘रीचा शर्मा’ से हुई | उस वक्त रीचा बॉलीवुड में नई नई आई थी और संजय उन्हें बहुत पसंद करने लगे थे,

1 साल के अंदर ही दोनों ने शादी करने का मन बना लिया और 1987 में संजय और रीचा ने न्यूयॉर्क में शादी कर ली, नंबर 15, 1992 में फिल्म ‘यालगार’ वैसे तो बॉक्स ऑफिस पर फ्लॉप रही, पर संजय इस फिल्म को हमेशा याद रखेंगे क्योंकी इसी फिल्म की शूटिंग के दौरान ‘फ़िरोज़ खान’ डाइरेक्टर प्रोडूसर और एक्टर थे तो उन्होंने दुबई में संजू को अंडरवल्ड डॉन दाऊद इभ्राहीम से मिलवाया और यही से ही संजय का अंडरवल्ड कनेक्शन शुरू हो गया,

नंबर 16, फिल्म ‘सनम’ के प्रोडूसर समीर हिंगोरा और हनीफ कड़वाला के साथ संजय काम कर रहे थे यह वो लोग थे जिन्होंने संजय की रिक्वेस्ट पर उन्हें गन्स लाकर दी | नंबर 17, जब बॉम्बे में ब्लास्ट हुए तो इसके बाद समीर और हनीफ़ को अरेस्ट किया गया। पता चला कि दोनों अंडरवर्ल्ड डॉन अबू सलेम के लिए काम कर रहे थे और मुंबई अटैक में इस्तेमाल हुए हथियार भी इन लोगों ने सप्लाई करवाए गए थे

तो इसी कनेक्शन में संजय को भी अरेस्ट किया गया, नंबर 18, संजय को कोर्ट में पेश किया गया तो उन्होंने अपने डिफेंस में कहा कि, उन्होंने यह गन अपनी फॅमिली की सेफ्टी के लिए खरीदी थी, क्योंकि बाबरी मस्जिद दंगों के दौरान सुनील दत्त को डेथ स्ट्रेंज आना शुरू हो गये थे, तो जज ने संजय की कहानी पर यकीन नहीं किया।

क्योंकि संजय के पास ऑलरेडी तीन लाइसेंस गन थी तो उन्होंने इनलीगल जरिए गन क्यों मंगवाए इसके बाद संजय पर मुकदमा चला और उन्हें 1993 में जेल की सजा हुई |

नंबर 19, जब 1993 में ‘खलनायक’ फिल्म रिलीज हुई तो संजय जेल में थे, फिल्म को प्रमोट करने के लिए सुभाष खाई ने संजय के जेल में होने का फायदा उठाया उन्होंने खलनायक की टैगलाइन यस आई एम द बिलिंग को प्रमोट किया और कुछ इस तरह बनाया जैसे संजय दत्त रियल लाइफ में विलियन हो। इन्हीं सब कारणों की वजह से खलनायक बॉक्स ऑफिस पर बहुत सक्सेसफुल रही और 1993 की दूसरी हाइ स्कोर फिल्म बनी ।

नंबर 20, 2017 की फिल्म भूमि ‘BHOOMI’ जो उन्होंने जेल से निकलने के बाद असाइन की थी, फिल्म की रिलीज़ होने की तारीख 29 जुलाई डिसाइड की गई थी, पर संजय अपनी बेटी त्रिशला को डेडिकेट करना चाहते थे, तो संजय ने प्रोडूसर से रिक्वेस्ट कि की इस फिल्म को 12 अगस्त को रिलीज किया जाये , संजय ने ऐसा इसलिए किया क्योंकि 11 अगस्त को त्रिशला का बर्थडे था

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button