Hindi Articles

सारा अली खान को अमृता सिंह ने दी डेटिंग की ऐसी सलाह, जो सभी के लिए हो सकती है काम की

जब भी हम किसी रिश्ते के बंधन में बंधते है तो हमें उसे निभाने की पूरी कोशिश करते है. कई बार अपने रिलेशनशिप को बनाए रखने के लिए बहुत चीजों का बलिदान भी करने लगते हैं, लेकिन इस दौरान जब आप खुद को भूलना शुरू कर देते हैं तब यह आपके भविष्य को अंधकार में ढकेल सकता है. यही कारण है कि अक्सर देखने को मिलता है कि लोग अपने ब्रेकअप के बाद न सिर्फ बुरी तरह से टूट जाते हैं बल्कि खुद को भी खो देते हैं. मगर आपको यह समझना होगा कि किसी भी रिश्ते में खुद के अस्तित्व का होना बेहद जरूरी होता है. जिसका जिक्र रिसेन्टली सारा अली खान ने किया है, जो सीख उनकी मां अमृता सिंह ने उन्हें दी है.

दरअसल, हाल ही में सारा अली खान ने इस बात का खुलासा किया था कि किसी लड़के को डेट करने को लेकर किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, इसका ज्ञान उनकी मां अमृता ने उन्हें दे दिया है. सारा ने बताया, मेरी मां हमेशा मेरा सही मार्गदर्शन करती हैं और वही मेरी सबसे अच्छी आलोचक भी हैं. उन्होंने मुझसे कहा है कि एक रिश्ते में जिसके भी साथ रहो लेकिन किसी दूसरे शख्स के लिए मुझे खुद को नहीं बदलना चाहिए. मैं जैसी हूं मुझे वैसा ही रहना है. अगर एक रिलेशनशिप में आपका ओपिनियन मायने नहीं रखता है तो वह रिश्ता ज्यादा लंबे समय तक टिक नहीं पाता है.

सारा की इन बातों से साफ है कि एक रिश्ते में आप अपना कितना भी एफर्ट लगाएं लेकिन कभी खुद को बदलने की कोशिश न करें. जिन रिश्तों में बराबरी का हक नहीं होता, वे ज्यादा वक्त तक नहीं चल पाते हैं.

किसी से प्यार करने का यह मतलब बिल्कुल भी नहीं कि आप उनके लिए खुद को भूल जाएं. इस बात का ध्यान हमेशा रखें कि अगर आपका पार्टनर आपको बदलने के लिए कहता है, तो आप सही साथी के साथ रिश्ते में नहीं हैं. एक रिलेशनशिप के लिए अपने अस्तित्व को खो देना कहीं से भी अकलमंदी का काम नहीं होता है, इसलिए अपने करियर, दोस्तों और परिवार के साथ वक्त बिताना कम न करें. रिलेशनशिप में आने के बाद आपको पार्टनर को टाइम देना होता है, यह सच है लेकिन खुद के लिए पर्सनल वक्त भी जरूर निकालें.

जब एक रिश्ते में दो अलग लोग आते हैं, तो जाहिर है कि उनके विचार भी अक्सर एक-दूसरे से मेल नहीं खाते हैं. हालांकि इसका यह मतलब बिल्कुल भी नहीं कि आप अपने विचारों को बदलने लग जाएं. अगर आपका पार्टनर इस बात से अपने विचार आप पर थोपने का प्रयास करता है या इस पर लड़ाई करता है, तो उसे यह बात क्लीयर करें कि आपकी अपनी एक सोच है.

अपने रिश्ते में शुरुआत से ही साथी को ये बताएं कि आप अपनी बात को खुलकर कहने वाली महिला हैं और उन्हें इसे समझना होगा. अगर फिर भी आपका पार्टनर इसे समझने में विफल रहे, तो ऐसे रिश्ते से दूरी बनाना ही बेहतर है.

इस बात में कोई शक नहीं कि पर्सनल लाइफ सबसे ज्यादा मायने रखती है, लेकिन इस आधुनिक युग में प्रोफेशनल लाइफ का भी अपनी अहमियत है. ऐसे में अगर आपका पार्टनर आप पर शादी के बाद जॉब छोड़ने जैसी शर्त रखता है, तो ऐसे रिश्ते को आगे बढ़ाने से पहले ही स्टॉप कर दें. खासतौर से महिलाएं अपने करियर को खत्म करने का फैसला बहुत सोच समझ कर ही लें.

हां, लाइफ में हर किसी के प्राथमिकता अलग हो सकती है, अगर आप पूरी तरह से खुद को परिवार के प्रति समर्पित करना चाहती हैं तो बिल्कुल ऐसा कर सकती हैं. लेकिन अगर किसी दबाव में आकर और अपना इच्छा के विरुद्ध सिर्फ रिलेशनशिप के लिए ऐसा निर्णय करने जा रही हैं, तो ऐसा न करें. आपका करियर सिर्फ आपको आजादी ही नहीं बल्कि इंडिपेन्सी भी देता है, जो हर शख्स के लिए बेहद जरूरी है.

इस बारे में आप क्या सोचते हो अपने विचार हमारे साथ फेसबुक पर जरूर शेयर कीजिये. अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल और सुझाव है तो आप हमें ईमेल के जरिये संपर्क कर सकते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button