HindiNews

अमीरों की शौहरत होने पर भी मुकेश अंबानी के बच्चे अपने बेडरूम की सफाई खुद ही करते थें, आखिर क्यों? वजह जानकर होंगे आप भी हैरान……

 

हमारे इंडिया के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी इन्हें तो हम सभी जानते है। मुकेश अंबानी एक सफल उद्योगपति है लेकिन वो अपनी व्यक्तिगत जिंदगी में पत्नी नीता अंबानी के योग्य पति और अपने बच्चों के परफेक्ट पिता है। मुकेश और नीता ने अपने तीनों बच्चों का परवरिश का अच्छे से ख्याल रखा। उन्हें उत्तम संस्कार दिए, जिससे वो अपने जिंदगी में एक अच्छा इन्सान बन सके । नीता अंबानी ने अपने बच्चों को कुछ ऐसे संस्कार दिए, की जो भी माँ सुनेंगे तो हैरान हो जाएगी। दुनिया के दिग्गज मुकेश अंबानी के बच्चे स्कूल में अपनी कार से नहीं बल्कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट से उन्हें भेजते थे। एक अमीर इन्सान के बच्चों की परवरिश ऐसी भी हो सकती है, यह सोचकर ही हम हैरान होंगे।

अमीर होने के बावजूद भी मुकेश और नीता ने कभी भी अपने बच्चों को लक्जरी लाईफस्टाइल नहीं दिया। घर में नौकर होते हुए भी बच्चों को ही अपना बेडरूम साफ करना पङता है। नीता ने एक बार अपने जीवन का किस्सा शेअर किया, उन्होंने कहा कि, आकाश, अनंत और ईशा जब स्कूल जाते थें, तब मैं उन्हें इतना कम पॉकेटमनी देती थीं कि,कई बार उनके क्लासमेट उनका मजाक उडाते थे। एक दिन तो छोटे बेटे अनंत के दोस्त ने उसके हाथ में खर्चे के लिए कम पैसे देकर कहा था कि, “तू अंबानी है या भिखारी…” जब अनंत ने घर आकर यह बात बतायी, तो उसे समझाने के लिए हमारे पास कोई कारण नहीं था।

इंडिया के सबसे उद्योगपति की पत्नी होने के बावजूद भी वह हमेशा स्वयं इस बात का ख्याल रखती थीं कि, उनके बच्चे सदैव ङाऊन टू अर्थ रहें। नीता स्वयं एक मिङल क्लास फैमिली में बङी हुई है। उन्हें घर से बाहर जाने की भी इजाजत नहीं थी। स्कूल या कॉलेज के जाने के लिए वो बसेस का सहारा लिया करती थीं। वो हमेशा से टीचर बनना चाहती थी। लेकिन बाद में शादी के बाद वो खुद ही अपने बच्चों का होमवर्क लेती थीं। नीता हमेशा यहीं कोशिश करती रहीं कि उनके बच्चों में ऐसे संस्कार हो कि, वो दौलत के नशे से हमेशा दूर रहें। मुकेश और नीता ने अपने बच्चों के पालन-पोषण के दौरान उन्हें यह सिखाया कि, वे लोगों का सम्मान कर सके। नैतिक मूल्ये और पैसों का सम्मान कर सके।

आपको हमारा आर्टिकल कैसा लगा, यह हमें कमेंट्स करके जरूर बताइए।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker